गायक Raju Punjabi: हरियाणवी संगीत उद्योग के लिए एक दुखद क्षति

40 साल की उम्र में प्रसिद्ध गायक Raju Punjabi के असामयिक निधन से हरियाणवी संगीत उद्योग को गहरा झटका लगा है। पीलिया से उत्पन्न जटिलताओं के कारण उनके निधन ने एक ऐसा शून्य छोड़ दिया है जिसे भरना मुश्किल है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने दुख व्यक्त किया और इस क्षति को हरियाणा के संगीत परिदृश्य के लिए “अपूरणीय” बताया। आइए इस असाधारण कलाकार के जीवन और विरासत के बारे में जानें।

अचानक प्रस्थान

पीलिया का इलाज करा रहे Raju Punjabi ने हिसार के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली। गायक की यात्रा में एक अप्रत्याशित मोड़ आया; शुरुआत में, जब उनके स्वास्थ्य में सुधार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई तो आशा की किरण जगी। हालाँकि, भाग्य को कुछ और ही मंजूर था, और उसकी हालत तेजी से बिगड़ने के कारण उसे फिर से भर्ती कराया गया। उनका अंतिम संस्कार उनके गृहनगर, रावतसर, राजस्थान में किया जाना तय है।

Also read: Lucy Letby: चिंताजनक मामले के बाद NHS Executives के विनियमन की मांग

मुख्यमंत्री की ओर से श्रद्धांजलि

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) के मंच का उपयोग करते हुए अपनी गहरी संवेदना और दुख व्यक्त किया। उन्होंने Raju Punjabi के निधन को हरियाणा म्यूजिक इंडस्ट्री के लिए बड़ा झटका बताया। सीएम ने अपना हार्दिक दुख साझा किया और दिवंगत आत्मा के लिए प्रार्थना करते हुए शोक संतप्त परिवार के लिए शाश्वत शांति और शक्ति की कामना की। उनका ट्वीट गंभीर “ओम शांति” के साथ समाप्त हुआ।

Raju Punjabi Death: सिंगर राजू पंजाबी ने ली आज अंतिम सांस, अस्पताल में थे दाखिल

हार्दिक प्रतिक्रियाएँ

Raju Punjabi के निधन की खबर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गूंज उठी है। गायक केडी देसी रॉक की इंस्टाग्राम पोस्ट जिसमें अस्पताल के बिस्तर पर राजू की तस्वीर है और कैप्शन है “राजू वापस आजा” ने प्रशंसकों को भावुक कर दिया है। समर्थकों और साथी कलाकारों ने समान रूप से राजू के योगदान के लिए गहरा दुख और प्रशंसा व्यक्त की। एक प्रशंसक ने साझा किया, “हरियाणा उद्योग का काला दिन बहुत बड़ा नुकसान है शुद्ध हरियाणे को जिसकी पूर्ति कहा ही हो जाए,” जबकि दूसरे ने लिखा, “”हरियाणा का हीरा”… रिप लेजेंड।”

एक संगीतमय यात्रा याद आ गई

Raju Punjabi की संगीत यात्रा को कई हिट ट्रैकों द्वारा चिह्नित किया गया जो हरियाणवी संगीत परिदृश्य में एंथम बन गए। सपना चौधरी सहित अन्य कलाकारों के साथ उनके सहयोग ने उनके प्रभाव को और मजबूत किया। “देसी देसी,” “आचा लागे से,” “तू चीज़ लाजवाब,” “भांग मेरे यारा ने,” और “लास्ट पेग” जैसे गानों ने श्रोताओं के दिलों में उनका नाम अंकित कर दिया। उनका अंतिम गीत, “आपसे मिलके यारा हमको अच्छा लगा था” अब एक मार्मिक धुन बन गया है जो एक युग के अंत को दर्शाता है।

दिलों का जमावड़ा

Raju Punjabi के निधन के बाद, साथी गायक और संगीत प्रेमी उन्हें अंतिम सम्मान देने के लिए हिसार में एकत्र हुए। सभा में उद्योग जगत पर उनके गहरे प्रभाव और उनसे मिले स्नेह को दर्शाया गया। उनकी अनुपस्थिति से जो खालीपन आया है वह स्पष्ट है, क्योंकि उनकी सशक्त आवाज और जीवंत उपस्थिति की बहुत याद आएगी।

Also read: BSTC Admit Card 2023 Out: Download Rajasthan Pre DElEd Exam Admit Card Now

अविस्मरणीय विरासत

Raju Punjabi की विरासत उनके संगीत से भी आगे है। वह सिर्फ एक गायक नहीं था; वह हरियाणवी भावना और संस्कृति के प्रतीक थे। उनकी अनूठी शैली और भावपूर्ण प्रस्तुतियाँ व्यापक दर्शकों को पसंद आईं। जैसा कि उद्योग इस संगीत विभूति के निधन पर शोक मना रहा है, यह याद रखना आवश्यक है कि वह अपने गीतों के माध्यम से कितनी खुशी लेकर आए और प्रशंसकों के बीच उन्होंने किस एकता को बढ़ावा दिया।

पूछे जाने वाले प्रश्न

Raju Punjabi के निधन का कारण क्या था?

Raju Punjabi का पीलिया से उत्पन्न जटिलताओं के कारण निधन हो गया।

उनका अंतिम संस्कार कहां किया जाएगा?

उनका अंतिम संस्कार उनके गृहनगर राजस्थान के रावतसर में होगा।

Raju Punjabi के निधन पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने क्या कहा?

मुख्यमंत्री ने गहरी संवेदना व्यक्त की और इस क्षति को हरियाणा संगीत उद्योग के लिए “अपूरणीय” बताया।

Raju Punjabi का आखिरी गाना कौन सा था?

राजू का अंतिम गाना था “आपसे मिलके यारा हमको अच्छा लगा था।”

Raju Punjabi के कुछ लोकप्रिय गाने कौन से थे?

Raju Punjabi को “देसी देसी,” “आचा लागे से,” “तू चीज लाजवाब,” और “भांग मेरे यारा ने” जैसी हिट फिल्मों के लिए जाना जाता था।

Leave a Comment

close
Thanks !

Thanks for sharing this, you are awesome !